Vikram Sarabhai Biography in Hindi and English 2020

Vikram  Sarabhai

Who Was Vikram Sarabhai??

(कौन थे विक्रम साराभाई ??)

Dr. Vikram Sarabhai was an Indian physicist and astronomer who helped develop initiated space research & nuclear power in  India.Dr. Sarabhai’s full name was Vikram Ambalal Sarabhai. Vikram Sarabhai was Known as the cradle of space sciences in India.

(डॉ। विक्रम साराभाई एक भारतीय भौतिक विज्ञानी और खगोलशास्त्री थे जिन्होंने भारत में अंतरिक्ष अनुसंधान और परमाणु ऊर्जा विकसित करने में मदद की। साराभाई का पूरा नाम विक्रम अंबालाल साराभाई था। विक्रम साराभाई को भारत में अंतरिक्ष विज्ञान के पालने के रूप में जाना जाता था।)

Vikram Sarabhai

Personal Life (व्यक्तिगत जीवन)

Vikram Ambalal Sarabhai was born on 12 August 1919 in Ahmedabad. His father’s name was Ambalal Sarabhai and his mother’s name was Sarla Devi. He married with Dancer Mrinalini Sarabhai in 1942. They had two children. His daughter’s name was Mallika and his son’s name was Karthikeya.

(विक्रम अंबालाल साराभाई का जन्म 12 अगस्त 1919 को अहमदाबाद में हुआ था। उनके पिता का नाम अंबालाल साराभाई और उनकी माता का नाम सरला देवी था। उन्होंने 1942 में डांसर मृणालिनी साराभाई के साथ शादी की। उनके दो बच्चे थे। उनकी बेटी का नाम मल्लिका था और उनके बेटे का नाम कार्तिकेय था।)

Vikram Sarabhai

Vikram Sarabhai

Education (शिक्षा)

He attended Gujarat College and later on shifted to the University of Cambridge, England. In 1945 He earned his doctorate from the University of Cambridge. In 1947 he wrote a thesis, “Cosmic Ray Investigations in Tropical Latitudes,”.The  Physical Research Laboratory was founded by Vikram Sarabhai in 1947. He set up the Operations Research Group. The first market research organization in our country. Sarabhai established Indian National Committee for Space Research in 1962 which was renamed later on as the Indian Space Research Organization (ISRO). Vikram Sarabhai Space Center is located in Trivandrum, Kerala, India.

(उन्होंने गुजरात कॉलेज में भाग लिया और बाद में इंग्लैंड के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में स्थानांतरित हो गए। 1945 में उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय 1947 से अपनी डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की, उन्होंने एक थीसिस लिखी, “कॉस्मिक रे इंवेस्टीगेशन्स इन ट्रॉपिकल लेटिट्यूड्स”। फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी की स्थापना विक्रम साराभाई ने 1947 में की थी। उन्होंने ऑपरेशन रिसर्च ग्रुप की स्थापना की। हमारे देश में पहला बाजार अनुसंधान संगठन। साराभाई ने 1962 में अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति की स्थापना की जिसका नाम बदलकर बाद में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) कर दिया गया।विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र भारत के त्रिवेंद्रम,केरल में स्थित है, )

Vikram Sarabhai

Vikram Sarabhai

Award (पुरस्कार)

Dr. Vikram Sarabhai was honored with India’s civilian awards Padma Bhushan(1966) and Padma Vibhushan in 1972.

(डॉ। विक्रम साराभाई को भारत के नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण (1966) और 1972 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।)

Distinguished Positions(प्रतिष्ठित पद)

Vikram Sarabhai was President of the Physics section, Indian Science Congress in 1962, and General Conference of the I.A.E.A., Vienna in 1970. Sarabhai was Chairman of the Atomic Energy Commission of India in 1966–1971, Vice-Presiden of Fourth UN Conference on ‘Peaceful uses of Atomic Energy’ (1971) and Founder & Chairman (1963–1971) of Space Applications Centre.

(विक्रम साराभाई 1962 में भौतिकी खंड, भारतीय विज्ञान कांग्रेस के अध्यक्ष थे, और 1970 में आईएईए, वियना के सामान्य सम्मेलन। साराभाई 1966-1971 में भारत के परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष थे, चौथे संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के उपाध्यक्ष ‘ अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र के परमाणु ऊर्जा ‘(1971) और संस्थापक और अध्यक्ष (1963-1971) के शांतिपूर्ण उपयोग।)

Vikram Sarabhai Death (मृत्यु)

Vikram Sarabhai

Vikram Sarabhai

Vikram Sarabhai was dead On 30 December 1971 (aged 52) in Halcyon Castle, Trivandrum, Kerala, India. (Dead Reason- Heart attack).Later on, the Indian Postal Department released a commemorative Postal Stamp On his first death anniversary (30 December 1972).

(विक्रम साराभाई 30 दिसंबर 1971 को (52 वर्ष की उम्र में) भारत के केरल के त्रिवेंद्रम के हैलिसन कैसल में मृत हो गए थे। (मृत कारण- दिल का दौरा)। भारतीय डाक विभाग ने उनकी पहली पुण्यतिथि (30 दिसंबर 1987) पर एक स्मारक डाक टिकट जारी किया।)

Source-Wikipedia,Vikram Sarabhai library,Vikram Sarabhai space center

Share This Post